ख्वाइशें कुछ यूँ भी अधूरी रही

ख्वाइशें कुछ यूँ भी अधूरी रही ,

पहले उम्र नहीं थी अब उम्र नहीं रही

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *