जिससे हम नाराज़ होते हैं

जिससे हम नाराज़

जिससे हम नाराज़ होते हैं

वो इंसान

हमारे दिल और दिमाग दोनों में रहता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *