जिससे हम नाराज़ होते हैं

जिससे हम नाराज़ होते हैं

वो इंसान

हमारे दिल और दिमाग दोनों में रहता है