ख़ामोशी में चाहे जितना बेगाना-पन हो..

ख़ामोशी में चाहे जितना बेगाना-पन हो..
लेकिन इक आहट जानी-पहचानी होती है.!!