ख़ामोशी में चाहे जितना बेगाना-पन हो | Shayari Ki Dayari